Friday , 24 November 2017

Home » भारत » शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके अपनाना बेहतर : नीतीश

शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके अपनाना बेहतर : नीतीश

पटना, 11 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां शनिवार को शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके को अपनाने पर बल देते हुए कहा कि वर्ग में पढ़ा देने से सिर्फ बच्चों को जानकारी मिल जाती है, लेकिन उसके अंदर की प्रतिभा सामने नहीं आ पाती।

उन्होंने कहा कि हमें प्रकृति के बनाए रास्ते पर ही चलना होगा, आज दुनिया भर में प्रकृति के साथ छेड़छाड़ के दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं।

देश के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद के जन्म दिवस के मौके पर पटना में शिक्षा दिवस समारोह का उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रख्यात शिक्षाविद् आईआईटी, कानपुर में भौतिकशास्त्र के प्रोफेसर हरीश चंद्र वर्मा को वर्ष 2017 का मौलाना अबुल कलाम आजाद शिक्षा पुरस्कार से सम्मानित किया।

इस मौके पर वर्मा को अंगवस्त्र, प्रशस्ति पत्र और ढाई लाख रुपये का चेक प्रदान किया गया।

इस समारोह में मुख्यमंत्री ने आजाद को एक महान स्वतंत्रता सेनानी बताते हुए कहा, “देश की आजादी की लड़ाई में इनका बहुत बड़ा योगदान था। आजादी के बाद बंटवारे के कारण उत्पन्न सांप्रदायिक तनाव को शांत करने में इनकी भूमिका तो रही ही, साथ ही अल्पसंख्यकों को यह भरोसा दिलाने में भी यह कामयाब रहे कि यह देश तुम्हारा है और इसी देश में तुम रहो।”

मुख्यमंत्री ने कहा, “प्राकृतिक तरीके से ही बच्चों को शिक्षित कर उनके अंदर की प्रतिभा को उभारा जा सकता है। शिक्षा का मतलब सबकी शिक्षा है, नारी की शिक्षा भी है। पहले नारी शिक्षा की स्थिति खराब रही है। गरीबी के कारण, पोशाक की कमी के कारण हमारे यहां अभिभावक अपनी लड़कियों को स्कूल नहीं भेजते थे।”

उन्होंने कहा, “बिहार में अब स्थिति बदली है। मध्य विद्यालयों में लड़कियों की संख्या आज लड़कों से ज्यादा हो गई है। पहले नौवीं कक्षा में 1.70 लाख लड़कियों की उपस्थिति थी, जो आज नौ लाख से भी ज्यादा हो गई है। मैट्रिक में आज इनकी संख्या 49 प्रतिशत हो गई है।”

मुख्यमंत्री ने सभी तरह के ज्ञान अर्जित करने पर बल देते हुए कहा, “प्रकृति या पर्यावरण हो, या इतिहास हो, इन सब चीजों के प्रति जानकारी होनी चाहिए, जागरूकता होनी चाहिए। इस पृष्ठभूमि के साथ शिक्षा का स्तर ऊंचा उठना चाहिए, हर एक के अंदर की जो प्रतिभा है, उसको उभारने की जरूरत है।”

नीतीश ने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा, “नए ढंग से शिक्षा का विकास होने पर हमारे युवा और भी मेधावी होकर उभरेंगे और सचमुच बिहार फिर से ज्ञान की भूमि बनेगी।”

शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके अपनाना बेहतर : नीतीश Reviewed by on . पटना, 11 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां शनिवार को शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके को अपनाने पर बल देते हुए कहा कि वर्ग में पढ पटना, 11 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां शनिवार को शिक्षा के प्रसार के लिए प्राकृतिक तरीके को अपनाने पर बल देते हुए कहा कि वर्ग में पढ Rating:
scroll to top