Tuesday , 21 November 2017

फीचर

Feed Subscription
बुंदेलखंड में महिलाएं संवार रहीं गांव की तकदीर

बुंदेलखंड में महिलाएं संवार रहीं गांव की तकदीर

हमीरपुर- समाज में महिलाओं को अब भी पुरुषों से कमतर आंका जाता है। उसकी बात को अनसुना करना आम है और अगर बात बुंदेलखंड की हो तो यहां के बड़े हिस्से में महिलाएं आज भी समाज में दूसरे द ...

Read More »
पटना उच्च न्यायालय का इतिहास गौरवशाली (100 साल पूरे)

पटना उच्च न्यायालय का इतिहास गौरवशाली (100 साल पूरे)

पटना, 6 मार्च (आईएएनएस)। पटना उच्च न्यायालय के 100 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में घोषित शताब्दी वर्ष के समापन समारोह में भाग लेने के लिए 12 मार्च को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मो ...

Read More »
फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ : जिन्होंने 1975 में लौटाया था ‘पद्मश्री’ सम्मान

फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ : जिन्होंने 1975 में लौटाया था ‘पद्मश्री’ सम्मान

ममता अग्रवाल  नई दिल्ली- 'बात बोलेगी हम नहीं, भेद खोलेगी बात ही' शमशेर बहादुर के इन शब्दों में ही अपने लिखे शब्दों का मर्म समेटते हुए आंचलिक कथाकार फणीश्वरनाथ 'रेणु' कहने को आतुर ...

Read More »
कब भ्रष्टाचार मुक्त होगा भारत?

कब भ्रष्टाचार मुक्त होगा भारत?

भ्रष्टाचार एक भयंकर कोढ़ है, जिसकी व्यापकता समाज और राष्ट्र के लिए घातक है। यह हमारी जड़ो को खोखला करता जा रहा है। भ्रष्टाचार के विकराल होते चंगुल में फस कर देश की निरीह जनता आज क ...

Read More »
प्रधानमंत्री जन धन योजना की चुनौतियां

प्रधानमंत्री जन धन योजना की चुनौतियां

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 अगस्त, 2014 को प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरुआत करते हुए कहा था, "आर्थिक इतिहास में पहले कभी भी एक दिन में 1.50 करोड़ बैंक खाते नहीं खोले गए हैं। ...

Read More »
‘कोख’ के मासूमों को बचा रहीं बिहार की 2 बेटियां!

‘कोख’ के मासूमों को बचा रहीं बिहार की 2 बेटियां!

मुजफ्फरपुर (बिहार), 21 फरवरी (आईएएनएस)| केंद्र सरकार हो या बिहार सरकार, प्रतिवर्ष भ्रूणहत्या रोकने के लिए लाखों-करोड़ों रुपये खर्च कर रही हैं, लेकिन बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के मी ...

Read More »
राजू राय क्यों घर से 1980 किलोमीटर दूर रहता है?

राजू राय क्यों घर से 1980 किलोमीटर दूर रहता है?

हिमाद्री घोष  राजू राय जब मात्र 17 वर्ष का था तब उसे पता चला कि उसकी मां को कैंसर हो गया है। रोजी रोटी की तलाश में उसे झारखंड के जामताड़ा जिले में स्थित अपना गांव छोड़ना पड़ा। अब ...

Read More »
“अवधूत” का सरल-सहज चित्रण किया है हजारी प्रसाद द्विवेदी ने -शिरीष के फूल में

“अवधूत” का सरल-सहज चित्रण किया है हजारी प्रसाद द्विवेदी ने -शिरीष के फूल में

जहाँ बैठके यह लेख लिख रहा हूँ उसके आगे-पीछे, दायें-बायें, शिरीष के अनेक पेड़ हैं। जेठ की जलती धूप में, जबकि धरित्री निर्घूम अग्निकुण्ड बनी हुई थी, शिरीष नीचे से ऊपर तक फूलों से लद ...

Read More »
घास की रोटियों में दबकर रह गई है बुंदेलखंड की पीड़ा

घास की रोटियों में दबकर रह गई है बुंदेलखंड की पीड़ा

रीतू तोमर  नई दिल्ली, 12 जनवरी (एजेंसी)| बुंदेलखंड का सूखा बीते कई सालों से सुर्खियों में है लेकिन उससे भी ज्यादा सुर्खियां बटोर रही है, घास की रोटियां। बुंदेलखंड के हालात किसी से ...

Read More »
बुंदेलखंड : किसानों ने जंगलों में छोड़े मवेशी

बुंदेलखंड : किसानों ने जंगलों में छोड़े मवेशी

संदीप पौराणिक  भोपाल, 8 जनवरी (आईएएनएस)| बुंदेलखंड एक बार फिर सूखे की मार से दो-चार हो रहा है। खेत वीरान पड़े हैं और मवेशियों को खाने के लिए चारा भी आसानी से नहीं मिल पा रहा है। य ...

Read More »
scroll to top