धर्म-अध्यात्म | dharmpath.com | Page 36

Sunday , 19 August 2018

धर्म-अध्यात्म

Feed Subscription

adhyatma samachar

अगाध श्रद्धा के आगे सारी रात जागे बाबा

अगाध श्रद्धा के आगे सारी रात जागे बाबा

वाराणसी। महाशिवरात्रि पर अगाध श्रद्धा से गदगद बाबा पूरी रात जागे। गर्भगृह मड़वे सा सजा और बाबा के सिर सेहरा फबा। चारों पहर रच रच श्रृंगार और भोग में नाना विध आहार। मिष्ठान, पकवान, ...

Read More »
मौत पीछा नहीं छोड़ती

मौत पीछा नहीं छोड़ती

एक बहुत प्यारी सूफ़ी कहानी है। एक बादशाह ने एक दिन सपने में अपनी मौत को आते हुए देखा। उसने सपने में अपने पास खड़ी एक छाया देख उससे पूछा-'तुम कौन हो? यहां क्यों आयी हो?'उस छाया या ...

Read More »
राशि के अनुसार कैसे करें शिव पूजा

राशि के अनुसार कैसे करें शिव पूजा

महाशिवरात्रि के दिन सही तरीके से पूजा कर आप भी कर सकते हैं भोले नाथ को प्रसन्न। राशी के अनुसार कैसे करें शिव पूजा : मेष -(चू चे चो ला ली लू ले लो अ) मेष राशी का रंग लाल है ,इस राश ...

Read More »
10 वर्ष बाद महाशिवरात्रि व सोमवती का विशिष्ट संयोग

10 वर्ष बाद महाशिवरात्रि व सोमवती का विशिष्ट संयोग

भारतीय ज्योतिष शास्त्र व नक्षत्र की गणना के अनुसार 10 वर्ष के बाद इस बार दो महापर्वों का विशिष्ट संयोग बना है। 10 मार्च को महाशिवरात्रि तथा 11 मार्च को अमावस्या होने से यह दोनों ह ...

Read More »
काल के देवता महाकाल

काल के देवता महाकाल

महाकाल को काल का नियंत्रक कहा जाता है। वैसे भी जीवन में काल अर्थात समय की महत्ता निर्विवादित है। संसार में सभी कुछ समय के आधीन हैं। जो व्यक्ति समय का सदुपयोग करते हुए उसके अनुसार ...

Read More »
आत्मा स्वयं परमात्मास्वरूप

आत्मा स्वयं परमात्मास्वरूप

जो मनुष्य किसी अलौकिक तत्व की झलक पाता है वह ऋषि कहलाता है। भारतीय मान्यता के अनुसार वेदों में इन्हीं ऋषियों का अनुभव, ज्ञान है। मोक्ष अर्थात तीनों तापों से मुक्ति के लिए पहले अपन ...

Read More »
पुण्य प्रदायिनी माघ पूर्णिमा

पुण्य प्रदायिनी माघ पूर्णिमा

यूं जल ही जीवन, मृत्यु और मोक्ष तीनों होता है। इसलिये माघ मास में गंगा स्नान, दान को महत्व दिया गया है। इतना ही नहीं इसी कारण हिंदू समाज में पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इसका कारण ...

Read More »
संत रैदास ने ठुकराया पारस पत्थर

संत रैदास ने ठुकराया पारस पत्थर

संत जी काशी में गंगा किनारे रहते थे ,एक झोपडी में वे और उनकी पत्नी निवासरत थे।झोपडी के बाहर ही वे जूते गाँठने का कार्य करते थे ,जीवन का खर्च चल जाता था परन्तु जीवन अभावग्रस्त था।ए ...

Read More »
आज संत रविदास जी की जयंती है ,कोटि 2 प्रणाम

आज संत रविदास जी की जयंती है ,कोटि 2 प्रणाम

अब कैसे छूटे राम, नाम रट लागी | प्रभुजी तुम चन्दन हम पानी, जाकी अंग अंग बास समानि | प्रभुजी तुम घन बन हम मोरा, जैसे चितवत चन्द चकोरा | प्रभुजी तुम दीपक हम बाती, जाकी जोति बरै दिन ...

Read More »
रविदास के भक्तों का जमावड़ा

रविदास के भक्तों का जमावड़ा

वाराणसी। श्री गुरु रविदास जी का 636 वां जयंती समारोह 25 फरवरी को जन्म स्थल सीर गोवर्धनपुर में मनाया जाएगा। संत रविदास के भक्तों का जमावाड़ा बढ़ता जा रहा है। कई दिन पहले से ही गुरु ...

Read More »
scroll to top