Friday , 24 November 2017

Home » भोपाल का पन्ना » मप्र:भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष-एकला चलो रे की नीति या मजबूरी ?

मप्र:भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष-एकला चलो रे की नीति या मजबूरी ?

March 8, 2017 6:10 pm by: Category: भोपाल का पन्ना Comments Off A+ / A-

युवा मोर्चा २(भोपाल)- सत्ता में वर्षों बीतने के बाद मप्र भाजपा में सांगठनिक व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गयी है .युवाओं को वे चाहे किसी भी क्षेत्र में हों राष्ट्र का कर्णधार माना जाता है लेकिन भाजपा का युवा मोर्चा सिर्फ अध्यक्ष का पदनाम ले नर्मदा यात्रा में बड़ा संकल्प कार्य करने जा रहा है .मोर्चा अध्यक्ष अभिलाष पांडे को महीनों बीत गए हैं पदभार ग्रहण किये लेकिन वे अपनी कार्यकारिणी की घोषणा नहीं कर पाए हैं .

भाजपा संगठन ने उन्हें नर्मदा यात्रा में देवास जिले के होने वाले कार्यक्रम में भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी तो सौंप दी है लेकिन बिना सेना के सेनापति अभिलाष पांडे भी हतप्रभ है की वे करेंगे क्या ?

कोई जमीनी तैयारी नहीं है 

अभिलाष पांडे को नर्मदा किनारे 11 मार्च को कार्यक्रम करना है जिसमें सर संघ चालक उपस्थित रहेंगे .हडबडाये भाजपा संगठन ने भीड़ जुटाने के लिए युवा मोर्चा को कार्यक्रम करने का कह दिया,अभिलाष पांडे के पास न लक्ष्य है की कितने युवा शामिल होंगे उन्हें यह भी पता नहीं की किस स्थल पर कार्यक्रम होना है बस उन्होंने जल्दीबाजी में घोषणा कर दी .

गर्मी के मौसम में पौधारोपण कर वे पौधे कैसे बचायेंगे 

पत्रकार वार्ता में अभिलाष पांडे ने युवक व् युवतिओं के शामिल होने की बात कही है एवं वृहद स्तर पर पौधे रोपने ,नशामुक्ति एवं पर्यावरण संरक्षण को लक्ष्य रख कार्य करने का दावा किया है लेकिन जब पत्रकारों ने पुछा की वे गर्मी में पौधे कैसे बचायेंगे तो उन्होंने कहा नर्मदा किनारे पौधे नहीं सूखेंगे.इस बचकाने बयान से महसूस हुआ की इन युवाओं के कन्धों पर आखिर कैसे राष्ट्र का भविष्य सुरक्षित रहेगा .

पर्यावरण के हरे रंग की जगह केसरीया साफा 

बात पर्यावरण की खातिर हरित क्रान्ति की हो रही और साफा केसरिया बाँध उतरेंगे युवा मोर्चा अध्यक्ष ,जब इस बाबत उनसे पूछा गया तो वे कहने लगे केसरिया क्रान्ति का प्रतीक है ,युवा मोर्चा क्रान्ति करेगा कैसी क्रान्ति वे करेंगे बिना कार्यकारिणी के तो वे चुप रहे.

दिग्गज नेता नहीं बनने दे रहे कार्यकारिणी 

सूत्रों ने बताया की चार दफे कार्यकारिणी तैयार की गयी लेकिन भाजपा के दिग्गज नेताओं की आपत्ति जो नामों के प्रति थी के चलते सूची तय नहीं हो पायी .अब युवा मोर्चा अध्यक्ष बिना अपने सहयोगी पदाधिकारियों के कार्यकर्ताओं के साथ इस कार्यक्रम का संचालन करेंगे .इनका मानना है की अभी युवा इसमें जोर-शोर से भाग लेंगे क्योंकि उन्हें उम्मीद है की वे कार्यकारिणी में शामिल हो सकते हैं लेकिन तब क्या होगा जब नाम मैदानी कार्यकर्ताओं के स्थान पर आयेंगे तब क्या होगा इस सवाल के जवाब में सभी नेता चुप्पी साध गए .

मप्र:भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष-एकला चलो रे की नीति या मजबूरी ? Reviewed by on . (भोपाल)- सत्ता में वर्षों बीतने के बाद मप्र भाजपा में सांगठनिक व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गयी है .युवाओं को वे चाहे किसी भी क्षेत्र में हों राष्ट्र का कर्णधार माना (भोपाल)- सत्ता में वर्षों बीतने के बाद मप्र भाजपा में सांगठनिक व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गयी है .युवाओं को वे चाहे किसी भी क्षेत्र में हों राष्ट्र का कर्णधार माना Rating: 0
scroll to top