Friday , 24 November 2017

प्रशासन

Feed Subscription
सूर्य मंदिर: दर्शन मात्र से संतान सुख की प्राप्ति होती है

सूर्य मंदिर: दर्शन मात्र से संतान सुख की प्राप्ति होती है

मध्यप्रदेश के दतिया जिले के उनाव बालाजी में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर इन दिनों श्रद्धालुओं के लिए आस्था का प्रमुख केन्द्र बना हुआ है लगभग चार सौ वर्ष पुराने इस ऐतिहासिक सूर्य मंदि ...

Read More »
पाप का घड़ा भरा, जल्द होगा ‘कल्कि अवतार’

पाप का घड़ा भरा, जल्द होगा ‘कल्कि अवतार’

बोध गया के महाबोधि मंदिर में हुए सिलसिलेवार धमाकों ने मंदिर परिसर में व्याप्त आध्यात्मिक शांति और आस्था की नींव को हिलाने का प्रयास किया। यह किन लोगों की हरकत थी, यह तो सुरक्षा एज ...

Read More »
सावन से पहले आया यह खास सोमवार

सावन से पहले आया यह खास सोमवार

सावन मास में सोमवार का विशेष महत्व होता है। लेकिन सावन से पहले ही इस वर्ष 8 जुलाई को ऐसा सोमवार आया है जिस दिन भगवान शिव की पूजा करके अपनी असफलता को सफलता में बदल सकते हैं। इस सोम ...

Read More »
एक दिन का यह व्रत देता है अपार पुण्य

एक दिन का यह व्रत देता है अपार पुण्य

शास्त्रों में कहा गया है कि श्रद्धापूर्वक ब्राह्मणों को भोजन करवाने से जाने-अनजाने हुए कई पापों से मुक्ति मिल जाती है। इसलिए विशेष अवसरों पर लोग ब्राह्मण भोज करवाते हैं। लेकिन एक ...

Read More »
पूजा के बाद क्यों जरूरी है आरती ?

पूजा के बाद क्यों जरूरी है आरती ?

घर हो या मंदिर, भगवान की पूजा के बाद घड़ी, घंटा और शंख ध्वनि के साथ आरती की जाती है। बिना आरती के कोई भी पूजा अपूर्ण मानी जाती है। इसलिए पूजा शुरू करने से पहले लोग आरती की थाल सजा ...

Read More »
शरीर पर गिरे छिपकली, तो स्नान करना क्यों है जरूरी ?

शरीर पर गिरे छिपकली, तो स्नान करना क्यों है जरूरी ?

घर की दीवारों पर आपने छिपकली को जरूर देखा होगा। कभी कभी यह अचानक दीवार से गिर भी जाती है। संयोगवश अगर यह आपके शरीर पर गिर जाए तो कई तरह की आशंकाएं मन में उठने लगती है। बड़े-बुजुर् ...

Read More »
सूर्य का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष प्रभाव हर जीव पर होता है

सूर्य का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष प्रभाव हर जीव पर होता है

मूर्ति के रूप में पूजने और मंदिरों में आराधना का चलन तो बाद में शुरु हुआ पर सूर्य की उपासना वैदिक काल में भी प्रचलित थी। आकाश में चमकते आग के विराट गोले की तरह अपनी मौजूदगी से पूर ...

Read More »
scroll to top